मानवता

I have a diary at my home, a quite old one. Surely, whatever little I write today, is because of the diary and that writer, who has written beautiful poems in it. During the 11/7 train blasts in Mumbai, my mom wrote another poem in her diary, the one which really moves me when I read it.
Dates may  have changed, but the face of terror remains the same, even more horrifying today. And the question on humanity still prevails …

 

मानवता

कहने को है मानव बुद्धिजीवी,
सभी प्राणियों मैं सर्वोपरी,
इसे मानों सच या मानों आँखोदेखी |

वाणी धर्म की संतो ने इसे समझाई,
पर इसने करने की जो मन मे ठानी ,
दुराचार मैं अपनी जिंदगी डूबाई,
न बात संतो की इसे समझ में आयी।

भौंकना तो कुत्तो से सिख लिया ,
पर ना सिखी उनसे वफादारी |
कौए से कांव कांव तो सिखा ,
पर ना सिखी कोयल की मधुर वाणी |
वह भी तो था मानव कोई,
जिसने मानवता को रुलाया बनके आतंकवादी |

कहाँ माँ राई तो काहा पिता की चित्कार उठी,
जो हादसा बना ग्यारह जुलाई |
हाथ बढ़ाकर लगा मरहम पट्टी ,
दर्द मिटा किसी का बोलकर प्यार की बोली,
अंधकार की हटा चादर मैली,
तभी मैं मानु सच, मानव तू हैं बुद्धिजीवी,
सभी प्राणियों मैं सर्वोपरी,

-REKHA JAIN

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s